Wednesday, August 24, 2016

सिंहासन बत्तीसी - 9

राजा झुंझलाकर चूप रह गया। अगले दिन वह पक्का करके सिहांसन की तरफ बढ़ा कि मधुमालती नाम की नंवी पुतली ने उसका रास्ता रोक लिया। बोली, "हे राजन् ! पहले मेरी बात सुनो।"

: ९ :

एक बार राजा विक्रमादित्य ने होम किया। ब्राह्यण आये, सेठ-साहूकार आये, देश-देश के राजा आये। यज्ञ होने लगा। तभी एक ब्राह्यण मन की बात जान लेता था। उसने आशीर्वाद दिया, "हे राजन्! तू चिरंजीव हो।"

जब मन्त्र पूरे हुए तो राजा ने कहा, "हे ब्राह्यण ! तुमने बिना दण्डवत् के आशीर्वाद दिया, यह अच्छा नहीं किया-

जब लग पांव ने लागे कोई।

शाप समान वह आशिष होई।।"

ब्राह्यण ने कहा, "राजन् तुमने मन-ही-मन दण्डवत् की, तब मैंने आशीष दी।"

यह सुनकर राजा बहुत प्रसन्न हुआ और उसने बहुत-सा धन ब्राह्यण को दिया। ब्राह्यण बोला, "इतना तो दीजिये, जिससे मेरा काम चले।"

इस पर राजा ने उसे और अधिक धन दिया। यज्ञ में और जो लोग आये थे। उन्हें भी खुले हाथ दान दिया।

इतना कहकर पुतली बोली, "राजन् ! तुम सिंहासन पर बैठने के योग्य नहीं। शेर की बराबरी सियार नहीं कर सकता, हंस के बराबर कौवा नहीं हो सकता, बंदर के गले में मोतियों की माला नहीं सोहती। तुम सिंहासन पर बैठने का विचार छोड़ दो।"